• Tuesday, July 07, 2020

अमेठी में ग्राम प्रधानों को 20-20 हजार रु की रिश्वत दे रही बीजेपी -प्रियंका

राजनीति May 04, 2019       681
अमेठी में ग्राम प्रधानों को 20-20 हजार रु की रिश्वत दे रही बीजेपी -प्रियंका

द करंट स्टोरी। नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव  के दौरान प्रियंका गांधी अपने भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए अमेठी में प्रचार कर रही हैं। अमेठी में प्रचार के दौरान प्रियंका गांधी ने एक बार फिर बीजेपी पर हमला बोला। प्रियंका गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि अमेठी में ग्राम प्रधानों को बीजेपी के लोग लिफाफे में पैसे पहुंचा रहे हैं। प्रियंका गांधी ने कहा कि अमेठी में बहुत गलत प्रचार हो रहा है।प्रियंका गांधी ने कहा कि यहां बहुत गलत प्रचार हो रहा है, पैसे बांटे जा रहे हैं, प्रधानों को मैं लिफाफे में घोषणा पत्र भेज रही हूं और बीजेपी वाले 20-20 हजार रु भेज रहे हैं। प्रियंका गांधी ने कहा कि ये वाकई हंसी की बात है, वो सोच रहे हैं कि अमेठी के प्रधान 20 हजार रु में बिक जाएगा। अमेठी में प्रियंका गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने देश को 5 साल में क्या दिया, इसका हिसाब प्रधानमंत्री नहीं दे रहे हैं। उन्होंने पीएम मोदी पर कई आरोप लगाए। अमेठी में प्रचार के आखिरी दिन प्रियंका गांधी ने स्मृति ईरानी पर जमकर हमला बोला।

उन्होंने कहा कि स्मृति ईरानी अमेठी में आकर नाटक कर रही हैं, वह 16 बार अमेठी आई हैं जबकि आपके सांसद राहुल गांधी यहां दोगुना बार आए हैं। प्रियंका ने कहा कि ईरानी देश भर की मीडिया बुलाकर यहां जूते बंटवा रही हैं। ये आपका अपमान करना चाहती हैं कि अमेठी के लोगों के पास जूते नहीं हैं। लेकिन वे समझ नहीं पाईं कि अमेठी की जनता क्या है।बता दें कि लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में अमेठी में 6 मई को मतदान होना है। शनिवार शाम पांच बजे प्रचार बंद हो जाएगा, लेकिन इससे पहले अमेठी में कांग्रेस-बीजेपी ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी जहां अमेठी मे ताबड़तोड़ नुक्कड़ सभाएं कर रही हैं तो वहीं, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का रोड शो आज होना है। अमेठी में राहुल गांधी का मुकाबला बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी से है।

Related News

मप्र : मंत्रियों के विभाग वितरण का अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व के जिम्मे

Jul 07, 2020

द करंट स्टोरी। मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में बनी सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार हो चुका है, लेकिन विभाग वितरण पर पेंच फंस गया है। अब अंतिम फैसला लेने की जिम्मेदारी केंद्रीय नेतृत्व पर छोड़ दी गई है। राज्य में पांच दिन पहले शिवराज सिंह चौहान सरकार के दूसरे मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार हो चुका है। मंत्रियों में विभागों के वितरण की कवायद जारी है। मुख्यमंत्री चौहान ने दो दिन तक दिल्ली...

Comment