• Tuesday, July 07, 2020

डोनाल्ड ट्रम्प से एक हफ्ते में दो मिलेंगे पीएम मोदी, नीतियों में बदलाव कर अमेरिकी कंपनियों को लाएंगे भारत

राष्ट्रीय Sep 19, 2019       538
डोनाल्ड ट्रम्प से एक हफ्ते में दो मिलेंगे पीएम मोदी, नीतियों में बदलाव कर अमेरिकी कंपनियों को लाएंगे भारत

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक हफ्ते के अंदर दो बार एक-दूसरे से मुलाकात करेंगे। अमेरिका में भारतीय राजदूत हर्षवर्धन शृंगला ने बुधवार को वॉशिंगटन में एक कार्यक्रम के दौरान इसकी पुष्टि की। उन्होंने कहा कि अमेरिका और भारत के पास अपने कूटनीतिक रिश्तों को सदी की सबसे बड़ी साझेदारी में बदलने का बड़ा मौका है। शृंगला ने यह भी कहा कि भारत अपनी कुछ नीतियों में बदलाव करने पर विचार कर रहा है, ताकि अमेरिकी कंपनियों को देश में लाया जा सके। 

मई में चुनाव जीतने के बाद से ही मोदी और ट्रम्प दो बार मिल चुके हैं। पहली बार दोनों नेता जापान (ओसाका) में जी-20 समिट (28-29 जून) के दौरान मिले थे। इसके बाद पिछले महीने दोनों की फ्रांस में जी-7 समिट में मुलाकात हुई थी। इस हफ्ते के अंत में मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में हिस्सा लेने न्यूयॉर्क जाएंगे। शृंगला के मुताबिक, मोदी अमेरिका दौरे पर ट्रम्प से दो बार मिलेंगे। यानी कुछ ही महीनों के अंतराल में दोनों नेताओं की चार मुलाकातें होंगी।

अगले 5 सालों में दोगुना होगा दोनों देशों का व्यापार: शृंगला ने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय व्यापार पिछले 10 सालों में दोगुना हुआ है। आने वाले 5 सालों में इसके फिर से दोगुने होने की संभावना है। इसलिए ह्यूस्टन और न्यूयॉर्क में ट्रम्प और मोदी की मुलाकात से पहले दोनों देशों के अफसर ट्रेड डील तय करने की कोशिशों में जुटे हैं। 

नए सेक्टर में भी बढ़ रही दोनों देशों की साझेदारी: शृंगला के मुताबिक- पिछले साल भारत ने पहली बार अमेरिका से 4.5 अरब डॉलर (करीब 32 हजार करोड़ रुपए) का तेल और गैस खरीदी। उन्होंने ऊर्जा के सेक्टर में भी साझेदारी बढ़ने के संकेत दिए। भारतीय राजदूत ने कहा, हम अगले 5 सालों में 280 अरब डॉलर (20 लाख करोड़ रुपए) के द्विपक्षीय व्यापार की तरफ देख रहे हैं। इसलिए छोटी मोटी रोक-टोक से दोनों देशों के रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ना चाहिए। 

Related News

कोविड19 : सीबीएसई के सिलेबस में 30 प्रतिशत कटौती

Jul 07, 2020

द करंट स्टोरी। कोरोना महामारी संक्रमण को देखते हुए कक्षा 9 से 12 तक छात्रों के सिलेबस में कटौती की गई है। मूल अवधारणाओं को बनाए रखते हुए पाठ्यक्रम को यथांसभव 30 प्रतिशत तक कम कर दिया गया है। यह कटौती केवल मौजूदा शैक्षणिक वर्ष तक सीमित रहेगी। फिलहाल इसका फायदा सिर्फ कक्षा 9 से 12 तक के स्कूली छात्रों को ही मिलेगा। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, "कोरोना के कारण...

Comment