• Friday, April 03, 2020

रुपया कोरोना की चपेट में, 17 महीनों के निचले स्तर पर पहुंचा

विविध Mar 12, 2020       39
रुपया कोरोना की चपेट में, 17 महीनों के निचले स्तर पर पहुंचा

द करंट स्टोरी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित किए जाने के बाद गुरुवार को भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 17 महीने के निचले स्तर पर पहुंच गया। वैश्विक आर्थिक नरमी गहराने की आशंका से घबराए निवेशकों का झुकाव डॉलर की ओर बढ़ने से रुपया गुरुवार की सुबह एक डॉलर के मुकाबले 74.34 रुपये पर जा पहुंचा।

हालांकि बाद में रुपये ने कुछ हद तक वापसी की और यह 74.14 रुपये के स्तर तक पहुंचा।

इससे पहले अक्टूबर 2018 में रुपये ने गिरने के मामले में अपना रिकॉर्ड कायम किया था, जब यह 74.48 के स्तर तक पहुंच गया था।

बुधवार को डब्ल्यूएचओ की घोषणा के बाद दुनिया भर के शेयर बाजारों में गिरावट आई है। भारतीय शेयर बाजार भी बीएसई सेंसेक्स के साथ 1,800 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ।

सुबह 10:20 बजे सेंसेक्स 33,824.09 पर कारोबार कर रहा था, जो पिछले बंद से 1,873.31 या 5.25 फीसदी कम था। वहीं एनएसई निफ्टी50 भी 564.45 अंक या 5.40 फीसदी नीचे लुढ़ककर 9,893.95 पर कारोबार करती नजर आई।

विश्व के विभिन्न देशों में कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के बाद बढ़ी आशंकाओं के बीच अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तेल की कीमतों में भी भारी गिरावट आई है। इसकी वजह से भारतीय मुद्रा भी डॉलर के मुकाबले कमजोर हुई है। ब्रेंट क्रूड फिलहाल 34 डॉलर प्रति बैरल के आसपास कारोबार कर रहा है।

Related News

कोविड-19 : ट्रंप ने अन्य देशों की मदद के लिए चीन को सराहा

Apr 02, 2020

द करंट स्टोरी। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण का मुकाबला करने वाले देशों और क्षेत्रों को पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण) प्रदान करने के चीन के प्रयासों का वह स्वागत करते हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने ट्रंप के हवाले से कहा कि वह इसे एक 'सकारात्मक कदम' के रूप में देखते हैं। विदेशों में शिपिंग के माध्यम से चीन कोरोनावायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में वैश्विक नेतृत्व की भूमिका...

Comment