• Thursday, July 18, 2019
Breaking News

फोनी की तबाही रोक भारत ने दुनिया को बताया जानलेवा तूफानों से निपटने का तरीका, UN ने भी की तारीफ

विविध May 04, 2019       112
फोनी की तबाही रोक भारत ने दुनिया को बताया जानलेवा तूफानों से निपटने का तरीका, UN ने भी की तारीफ

द करंट स्टोरी।

फोनी के प्रकोप का सामना करने वाले देश के राज्य ओडिशा ने दुनिया को सिखाया है कि किस तरह जानलेवा चक्रवाती तूफानों से निपटने की तैयारी की जाए और जनहानि को कम किया जाए।

भुवनेश्वर (ओडिशा) :भीषण चक्रवाती तूफान फोनी के प्रकोप का सामना करने वाले ओडिशा ने दुनिया को एक बड़ी सीख दी है। राज्य प्रशासन ने अपनी बेहतर प्लानिंग से जनहानि को कई गुना कम करके एक मिसाल पेश की है। ओडिशा ने पूरी दुनिया को बता दिया है कि विनाशकारी चक्रवाती तूफानों से कैसे निपटा जाए। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने भारत के प्रयासों की जमकर तारीफ की है। शुक्रवार को आया तूफान फोनी भी दुनियाभर में भारी नुकसान करने वाले चक्रवाती तूफानों जैसा ही था, मगर बेहतर प्लानिंग की वजह से भारत ने जानमाल के नुकसान को बहुत हद तक कम कर दिया। आमतौर पर फोनी जैसे भीषण तूफान सैकड़ों लोगों की जान लेता रहा है।इससे पहले 1999 में ओडिशा में आए सुपर साइक्लोन से 10 हजार से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। लेकिन इस बार मौत का आंकड़ा 12 तक ही सिमट गया। 

राज्य सरकार ने पूरी मशीनरी झोंक दी 
ओडिशा सरकार ने लोगों को सचेत करने में और सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में अपनी पूरी मशीनरी झोंक दी। तूफान से पहले करीब 26 लाख टेक्स्ट मैसेज भेजे गए, 43 हजार वॉलंटियर्स, 1000 आपातकालीन कर्मी, टीवी पर विज्ञापन, तटीय इलाकों में लगे साइरन, बसें, पुलिस अधिकारी और सार्वजनिक घोषणा जैसे तमाम उपाय राज्य सरकार ने किए और यह काम भी कर गया। 

ओडिशा ने ऐसे पेश की मिसाल
शुक्रवार को ओडिशा के तटीय इलाकों से टकराया तूफान फोनी के दौरान 220 किमी/घंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं। बस, कार, क्रेन, पेड़ कुछ भी तूफान के आगे नहीं टिक पाया। तूफान के बाद तबाही के मंजर की तस्वीरें देखकर दिल दहल जाए, लेकिन जिस तरह की तबाही थी उस तरह की जनहानि नहीं हो पाई और यहीं ओडिशा ने दुनिया के सामने एक मिसाल पेश की है। 

'लोगों ने सरकारी मशीनरी से गंभीरता की उम्मीद नहीं की थी' 
तूफान से जो सबसे ज्यादा प्रभावित हो सकते थे, उन्हें समय रहते ही वहां से निकाल लिया गया। एक्सपर्ट की मानें तो यह एक अद्भुत उपलब्धि है। खासतौर पर भारत के लिए उस राज्य के लिए जिसकी गिनती पिछड़े राज्यों में होती है। पूर्व नौसेना अधिकारी और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन के मैरिटाइम पॉलिसी इनिशिएटिव हेड अभिजीत सिंह ने कहा, 'बहुत ही कम लोगों ने सरकारी मशीनरी से इस तरह की गंभीरता की उम्मीद की थी। यह एक बहुत बड़ी सफलता है।' 

20 साल पहले ऐसे ही तूफान ने मचाई थी तबाही 
ये हालात 20 साल पहले के इसी इलाके में आए चक्रवाती तूफान से बहुत अलग हैं। उस वक्त आए चक्रवाती तूफान ने हजारों लोगों की जान ले ली थी। कई लोग अपने घरों के मलबे में दबे मिले, कई लोगों की लाशें उनके घर से मीलों दूर मिलीं। इसके बाद से ओडिशा में कई छोटे-बड़े तूफान आए, मगर इस तरह की त्रासदी दोबारा नहीं हुई। फोनी जैसे भीषण तूफान में इतनी कम जनहानि ने तो नए आयाम स्थापित कर दिए हैं। 

राज्य के विशेष राहत आयुक्त विष्णुपद सेठी ने कहा, 'हम इसको लेकर पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं कि तूफानों में एक भी आदमी की जान नहीं जानी चाहिए। यह एक दिन या एक महीने भर का काम नहीं है, बल्कि इसमें हमने पिछले 20 साल खपाए हैं।' 

शेल्टर होम बने लोगों के लिए वरदान 
1999 में आए तूफान के बाद जो सबसे बड़ी चीज हुई, वह थी तूफान से बचने के लिए शेल्टरों का निर्माण। समुद्र तटीय इलाकों से कुछ किमी की दूरी पर बने ये शेल्टर तूफान के दौरान लोगों को बचाने का सबसे बड़ा जरिया होते हैं। ये देखने में आकर्षक नही लगते हैं। एक पुरानी सी दिखने वाली दो मंजिला इमारत यूं तो भले ही रहने लायक ना लगे, लेकिन आईआईटी खड़गपुर के विशेषज्ञों द्वारा डिजाइन की गई ये इमारतें चक्रवाती तूफानों को झेलने में सक्षम हैं। 

फोनी से निपटने के लिए युद्धस्तर पर थी तैयारी 
फोनी तूफान आने से पहले ओडिशा में स्थानीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण और एनडीआरएफ की टीमें सक्रिय हो गई थीं। एनडीआरएफ ने तूफान से निपटने की लिए 65 टीमें उतारी थीं, जो इसकी किसी क्षेत्र में अभी तक की सबसे बड़ी तैनाती है। एक टीम में 45 लोग शामिल थे। पिछले तीन दिनों में ओडिशा, आंध्र प्रदेश और सड़कें दुरुस्त करने, कानून-व्यवस्था और भोजन की व्यवस्था के लिए अतिरिक्त टीमें लगाई गईं। फोनी से निपटने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी थी। पुरी के गोपालपुर में सेना की तीन टुकड़ियां स्टैंडबाय पर थीं और पनागर में इंजिनियरिंग टास्क फोर्स थी। नौसेना ने राहत कार्यों के लिए 6 जहाजों को तैनात किया, जबकि मेडिकल और डाइविंग टीम अलर्ट पर थीं। इसके अलावा भारतीय वायुसेना ने दो सी -17, दो सी-130 और चार एएन-32 को स्टैंडबाय पर रखा था। 

संयुक्त राष्ट्र ने भी की तारीफ 
आपदा के खतरे में कमी लाने वाली यूएन की एजेंसी ने भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की फोनी के बारे में सटीक चेतावनी की जमकर तारीफ की है। बता दें कि सही समय पर चेतावनी के कारण ओडिशा में आए भयंकर चक्रवाती तूफान में जनहानि काफी कम हुई। 

डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (आपदा के खतरे में कमी) फॉर यूनाइटेड नेशंस सेक्रटरी जनरल की विशेष प्रतिनिधि और जिनेवा स्थित यूएन ऑफिस फॉर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (UNISDR) की हेड मामी मिजोटरी ने कहा कि भारत का कम से कम नुकसान के दृष्टिकोण ने तबाही में काफी कमी ला पाने में सफलता पाई। 

कब-कब आए तूफान, कितनी गई जान 
फोनी के पहले भारत में आए चक्रवाती तूफानों में सैकड़ों की मौतें हुई थीं। 1988 में 04B नाम के बेहद खतरनाक चक्रवाती तूफान ने 29 नवंबर को पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश की सीमा पर टकराया था। इस तूफान में 6,240 लोगों की मौत हो गई थी। 1990 में आंध्र प्रदेश में सुपर साइक्लोन 9 मई को तट से टकराया था। इसमें 967 लोगों की मौत हो गई थी। 4 दिसंबर 1993 में पुड्डुचेरी के तट से BOB 02 तूफान टकराया था इसमें 70 लोगों की मौत हो गई थी। 2000 में 29 नंवबर को BOB 05 नामक बेहद खतरनाक तूफान ने तमिलनाडु के तट पर दस्तक दिया था। इस तूफान में 12 लोग मारे गए थे। 2013 में 12 अक्टूबर को फालिन नाम तूफान ने दस्तक दी थी। इसमें 30 लोगों की मौत हो गई थी। 2014 में अक्टूबर में आए बेहद खतरनाक तूफान हुदहुद ने विशाखापत्तनम को पार किया था। हालांकि बेहतर तैयारियों के कारण इस तूफान में भी किसी की जान नहीं गई थी। 

Related News

'फानी' का फन कुचलने में कामयाब रहा मौसम विभाग, ऐसे बचाई सैकड़ों जिंदगी

May 04, 2019

द करंट स्टोरी।ओडिशा में 1999 में आए इसी तरह के सुपर साइक्लोन में करीब 10,000 लोगों की जानें गई थीं चक्रवातीय तूफान फानी ने शुक्रवार को ओडिशा के तटीय इलाकों को प्रभावित किया. इस दौरान यहां 245 किमी/घंटे की रफ्तार से तेज़ हवाएं भी चलीं. इससे 10 लोगों की मौत की खबर है, लेकिन इतना खतरनाक तूफान होने के बावजूद किसी बड़ी दुर्घटना को रोक पाने को भारतीय मौसम विभाग और सरकारी एजेंसियों की कामयाबी...

Comment