• Wednesday, January 29, 2020
Breaking News

ED RVNL ने नशे में किया विवाद, हिरोइन के साथ फोटों खिंचवाने पहुंचे थे स्टेशन

Exclusive Mar 03, 2019       2263
ED RVNL ने नशे में किया विवाद, हिरोइन के साथ फोटों खिंचवाने पहुंचे थे स्टेशन

द करंट स्टोरी, भोपाल। रेलवे के कुछ अधिकारियों की गलती का खामियाजा पूरे सिस्टम को उठाना पड़ता है। 14 फरवरी को पुलवामा में हमारी सेना के जवानों पर आतंकतवादी हमला हुआ था, जिसमें 42 सैनिक शहीद हो गए थे। पूरा देश गमगीन था, लेकिन 16 फरवरी को भोपाल रेल मंडल के अधिकारी शहीदों को श्रद्धांजली देने की बजाय नर्मदा क्लब में पार्टी कर रहे थे, इतना ही नहीं नशे में हबीबगंज स्टेशन पर ड्रायवरों से विवाद भी किया था। यह मामला थमा भी नहीं था कि 26 फरवरी को भोपाल रेलवे स्टेशन में एक फिल्म की शूटिंग के दौरान रेल विकास निगम लिमिटेड (RVNL) के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर (ED) और उनके ड्रायवर ने शराब के नशे में विवाद कर दिया।

द करंट स्टोरी को विश्वसनीय सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि भोपाल रेलवे स्टेशन स्थित रिजर्वेशन कार्यालय में फिल्म की शूटिंग चल रही थी। शूटिंग के आखिरी दिन शाम को लगभग 9 बजे RVNL के ED विकास अवस्थी अपने ड्रायवर के साथ भोपाल स्टेशन पहुंचे। वहां पर उन्होंने फिल्म की हिरोइन के साथ फोटो खिंचवाने की जिद की। चूंकि वह नशे में थे, इसलिए ​शूटिंग यूनिट के लोगों ने मना कर दिया। इसके बाद वह भड़क गए और ​हंगामा करने लगे। जिसके बाद व​हां मौजूद बाउंसरों ने उन्हें बाहर निकाल दिया।

साहब का ड्रायवर भी नशे में था
आपको जानकर आश्चर्य होगा कि ED RVNL का ड्रायवर भी नशे में था। ड्रायवर ने भी वहां मौजूद लोगों के साथ विवाद किया था। सूत्रों ने यह भी बताया कि बाउंसरों ने ड्रायवर को पकड़कर वहां मौजूद पुलिस वालों के हवाले कर दिया था। मामले को लेकर ED RVNL से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया और न ही एसएमएस और व्हाट्सएप पर भेजे गए संदेश का कोई जवाब दिया।

डीआरएम को मांगनी पड़ी मांफी!
चूंकि मामला रेलवे के बड़े अधिकारी से जुड़ा था, इसलिए भोपाल रेल मंडल के डीआरएम को हस्तक्षेप करना पड़ा। डीआरएम ने शूटिंग यूनिट से मांफी मांगी और रेलवे की बदनामी न हो, इसलिए लिखित शिकायत न करने को कहा। डीआरएम के हस्तक्षेप के बाद शूटिंग यूनिट ने पुलिस में कोई लिखित शिकायत नहीं की जिसके बाद पुलिस ने कोई मामला कायम न​हीं किया और ड्रायवर को छोड़ दिया।

डराया—धमकाया, जीएम को नहीं दी जानकारी
पूरे मामले को दबाने के लिए डीाआरएम सहित कई बड़े अधिकारियों ने वहां मौजूद रेलवे के अधिकारियों और कर्मचारियों सहित शूटिंग यूनिट को न केवल डराया बल्कि धमकाया भी कि उक्त मामले की जानकारी बाहर न जाने पाए। इतना बड़ा घटनाक्रम हुआ फिर भी पश्चिम मध्य रेलवे के जीएम को जानकारी तक नहीं दी गई।

इनका कहना है:
मुझे इस मामले की जानकारी नहीं दी गई है। आपने बताया है तो मैं भोपाल डीआरएम से जवाब मांगूगा।
अजय विजयवर्गीय, महाप्रबंधक, पश्चिम मध्य रेलवे

आप कौन मैं आपको नहीं जानता। मैं केवल अधिमान्य पत्रकारों से ही बात करता हूं, यदि आपके पास अधिमान्यता है तो कार्यालय लेकर आइए, उसके बाद बात करुंगा।
शोभन चौधुरी, डीआरएम, भोपाल रेल मंडल

मैं इस मामले में आधिकारिक रुप से कुछ नहीं बोल सकता। बेहतर होगा आप डीआरएम साहब से बात कर लें।
आई ए सिद्दीकी, प्रवक्ता, भोपाल रेल मंडल

 

 

 

Related News

एंटी फॉग डिवाइस हो गया फेल, 30 दिन में 265 ट्रेन हुईं लेट

Jan 21, 2020

कोहरे में ट्रेनों के थम गए पहीए, रेलवे बोर्ड ने जबरिया थोपा 'फॉग सेफ' प्रवेश गौतम, भोपाल। रेलवे अधिकारियों द्वारा लगातार झूठे तथ्य पेश करके एंटी फॉग डिवाइस — 'फॉग सेफ' को सफल बताने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि सच्चाई यह है कि उक्त डिवाइस (मशीन) के उपयोग के बावजूद राजधानी व शताब्दी सहित कई ट्रेनें लगातार लेट हो रही हैं। भोपाल रेल मंडल की पंक्चुअलिटी रिपोर्ट में तो 25 प्रतिशत की गिरावट...

Comment