• Wednesday, January 29, 2020
Breaking News

पुलवामा हमले के बावजूद पमरे अधिकारियों ने की पार्टी, नशे में ड्रायवर से हुआ विवाद?

Exclusive Feb 18, 2019       2753
पुलवामा हमले के बावजूद पमरे अधिकारियों ने की पार्टी, नशे में ड्रायवर से हुआ विवाद?

द करंट स्टोरी, भोपाल। जिस वक्त पूरा देश पुलवामा हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों की शहादत पर गमगीन था, उसी वक्त पश्चिम मध्य रेलवे के अधिकारियों द्वारा न केवल पार्टी की गई, बल्कि शराब के नशे में ड्रायवरों से विवाद भी किया गया।

दरअसल, 16 फरवरी को पश्चिम मध्य रेलवे के महाप्रबंधक का गुना से मक्सी के बीच वार्षिक निरीक्षण था। पूरा दिन निरीक्षण करने के बाद महाप्रबंधक शाम को भोपाल पहुंचे। सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि महाप्रबंधक के साथ पमरे के कई वरिष्ठ अधिकारी भी थे। जैसा कि रेलवे में प्रथा है कि महाप्रबंधक के दौरे के बाद नर्मदा क्लब में पार्टी रखी जाती है, ठीक वैसा ही इस बार भी किया गया। हालांकि पार्टी में विशेष प्रावधान नहीं किया गया, लेकिन डिनर के पहले अधिकारियों के लिए विदेशी शराब के साथ शाकाहारी व मासांहारी विशेष व्यंजन भी परोसे गए।

रेलवे अधिकारियों ने पार्टी की खबर लीक न हो इसका पूरा प्रयास किया। लेकिन देर रात लगभग 12.30 बजे हबीबगंज स्टेशन के बाहर सेकंड एंट्री में भोपाल मंडल के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों का एक कार के ड्रायवर से विवाद हो गया।

महाप्रबंधक को देर रात हबीबगंज स्टेशन से विदा करने के बाद, जब कुछ अधिकारी वापस लौटे तो उन्होंने वहां मौजूद गाड़ी के ड्रायवर से बदतमीजी कर दी। चूंकि अधिकारी नशे में थे तो ड्रायवर से विवाद बढ़ गया। बाद में वहां मौजूद रेलवे के स्टाफ ने बीच बचाव कर मामला शांत कराया। मौके पर मौजूद एक रेलवे कर्मचारी ने द करंट स्टोरी से इस विवाद की पुष्टि भी की।  

वहीं एक अन्य अधिकारी ने नर्मदा क्लब में हुई शराब पार्टी को लेकर कुछ कहने से मना कर दिया, लेकिन उन्होंने इसका खंडन भी नहीं किया। एक अन्य अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि नर्मदा क्लब में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, यदि उनके फुटेज देखें जाएं तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।

पूरे मामले की सच्चाई जो भी हो, लेकिन यदि रेलवे अधिकारियों द्वारा नर्मदा क्लब में पार्टी की गई है तो यह निश्चित ही उनकी संवेदनहीनता को दर्शाता है। वहीं ड्रायवर से विवाद करना रेलवे अधिकारियों की सोच व कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान भी खड़ा करता है।

 

 

 

 

 

 

Related News

एंटी फॉग डिवाइस हो गया फेल, 30 दिन में 265 ट्रेन हुईं लेट

Jan 21, 2020

कोहरे में ट्रेनों के थम गए पहीए, रेलवे बोर्ड ने जबरिया थोपा 'फॉग सेफ' प्रवेश गौतम, भोपाल। रेलवे अधिकारियों द्वारा लगातार झूठे तथ्य पेश करके एंटी फॉग डिवाइस — 'फॉग सेफ' को सफल बताने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि सच्चाई यह है कि उक्त डिवाइस (मशीन) के उपयोग के बावजूद राजधानी व शताब्दी सहित कई ट्रेनें लगातार लेट हो रही हैं। भोपाल रेल मंडल की पंक्चुअलिटी रिपोर्ट में तो 25 प्रतिशत की गिरावट...

Comment