• Tuesday, December 06, 2022
Breaking News

शोपियां में एनकाउंटर का तीसरा दिन, फिर शुरू हुई गोलीबारी

राष्ट्रीय Mar 15, 2021       875
शोपियां में एनकाउंटर का तीसरा दिन, फिर शुरू हुई गोलीबारी

द करंट स्टोरी। दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के रावलपोरा में 24 घंटे बाद आतंकवादियों और सुरक्षा बलों में फिर से गोलीबारी शुरू हो गई। अधिकारियों ने सोमवार को ये जानकारी दी। पुलिस ने कहा, "शोपियां के रावलपोरा में मुठभेड़ शुरू हो गई है।"

आतंकवादियों की मौजूदगी के संबंध में विशेष सूचना पर शनिवार को शुरू हुई मुठभेड़ सोमवार को तीसरे दिन में प्रवेश कर गई। पुलिस, सेना के 34 आरआर और सीआरपीएफ की संयुक्त कार्रवाई चल रही है।

पुलिस ने कहा कि तलाशी अभियान के दौरान, आतंकवादियों की उपस्थिति का पता चलने के बाद, उन्हें आत्मसमर्पण करने का मौका दिया गया। हालांकि, आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके खिलाफ जवाबी कार्रवाई की गई।

अंधेरे के कारण ऑपरेशन रोक दिया गया था। हालांकि, रात भर कॉर्डन बरकरार रहा।

पुलिस ने कहा कि रविवार की सुबह छिपे हुए आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने के लिए बार-बार घोषणा की गई, लेकिन आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की, जिसके खिलाफ जवाबी कार्रवाई की गई जिसमें अब तक एक आतंकवादी मारा गया है।

मारे गए आतंकवादी की पहचान जहांगीर अहमद वानी, स्वर्गीय अब्दुल रहमान वानी के पुत्र के रूप में की गई है, जो राख नारापोरा शोपियां का निवासी था। पुलिस ने कहा कि जहांगीर आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा हुआ था।

पुलिस ने कहा, "मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद, जिसमें अमेरिका निर्मित एम 4 कार्बाइन राइफल और अन्य हानिकारक सामग्री शामिल है, बरामद किए गए हैं। सभी बरामद सामानों को आगे की जांच के लिए रिकॉर्ड में लिया गया है।"

"मुठभेड़ के दौरान, तीन घरों में आग लग गई, जबकि कुछ बदमाशों ने ऑपरेशन को बाधित करने की कोशिश की और मुठभेड़ स्थल के पास कानून व्यवस्था की समस्या पैदा कर दी। इस दौरान कुछ बदमाश घायल भी हुए। छिपे हुए अन्य आतंकवादियों के खिलाफ ऑपरेशन अभी भी जारी है।"

Related News

नियमों को ताक पर रख सालों से एक ही जगह डटे रेलवे कर्मचारी

Jul 20, 2022

बड़े साहब की द​रियादिली या निहित स्वार्थ! प्रवेश गौतम, भोपाल। भारतीय रेलवे  (Indian Railway) में नियमों का तो अंबार है, लेकिन इनको मानने वालों की भारी कमी है। कहने को तो भ्रष्टाचार (Corruption in Railways) पर जीरो टॉलरेंस (Zero Tolerance Policy) की नीति की बात करते हैं लेकिन कुछ अधिकारियों (Corrupt Railway Officers) के लिए मानो भ्रष्टाचार तरक्की (Promotion in Railway) की सीढ़ी है। यकीन न हो तो भोपाल रेल मंडल (Bhopal Rail Division) की...

Comment