• Monday, April 22, 2024
Breaking News

भर्ती घोटाला : सीबीआई ने 17 सैन्य अधिकारियों को किया नामजद, 30 जगह तलाशी ली

राष्ट्रीय Mar 16, 2021       1289
भर्ती घोटाला : सीबीआई ने 17 सैन्य अधिकारियों को किया नामजद, 30 जगह तलाशी ली

द करंट स्टोरी। केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने सेना में अफसरों की भर्ती में कथित भ्रष्टाचार को लेकर एक बड़ी कार्रवाई करते हुए सोमवार को 17 अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करने के अलावा कई राज्यों में 30 स्थानों पर तलाशी ली। जिन अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, उनमें छह लेफ्टिनेंट कर्नल, एक मेजर, एक नायब सूबेदार और एक हवलदार व उनके परिवार के सदस्य शामिल हैं।

सीबीआई के एक प्रवक्ता ने यहां बताया कि एजेंसी की कई टीमों ने बेस अस्पताल, छावनी और 13 शहरों में सेना के अन्य प्रतिष्ठानों एवं नागरिक क्षेत्रों - कपूरथला, भठिंडा, दिल्ली, कैथल, पलवल, लखनऊ, बरेली, गोरखपुर, विशाखापट्टनम, जयपुर, गुवाहाटी, जोरहाट सहित 30 स्थानों पर तलाशी ली।

अधिकारी ने कहा कि तलाशी के दौरान कई गुप्त दस्तावेज जब्त किए गए हैं। अधिकारी ने कहा कि तलाशी के दौरान बरामद दस्तावेजों की छानबीन की जा रही है।

सीबीआई ने इस साल 13 मार्च को अतिरिक्त महानिदेशालय, अनुशासन और सतर्कता, एडजुटेंट जनरल की शाखा, रक्षा मंत्रालय के एकीकृत मुख्यालय (सेना), डीएचक्यू पीओ, नई दिल्ली की ओर से एक शिकायत पर मामला दर्ज किया था।

सीबीआई ने लेफ्टिनेंट कर्नल, मेजर, नायब सूबेदार, सिपाही आदि सहित 17 सैन्य अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यह कार्रवाई सेवा चयन बोर्ड (एसएसबी) के माध्यम से अधिकारियों और अन्य रैंकों की भर्ती में रिश्वत और अनियमितताओं से संबंधित आरोपों पर की गई है।

सीबीआई ने बेस अस्पताल दिल्ली छावनी में तैनात नायब सूबेदार कुलदीप सिंह, लेफ्टिनेंट कर्नल एमवीएसएनए भगवान, आर्मी एयर डिफेंस कॉर्प्स (छुट्टी पर) विशाखापट्टनम, मेजर भावेश कुमार, ग्रुप टेस्टिंग ऑफिसर, 31 एसएसबी सिलेक्शन सेंटर नॉर्थ, कपूरथला के अलावा कई वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है।
 

Related News

नियमों को ताक पर रख सालों से एक ही जगह डटे रेलवे कर्मचारी

Jul 20, 2022

बड़े साहब की द​रियादिली या निहित स्वार्थ! प्रवेश गौतम, भोपाल। भारतीय रेलवे  (Indian Railway) में नियमों का तो अंबार है, लेकिन इनको मानने वालों की भारी कमी है। कहने को तो भ्रष्टाचार (Corruption in Railways) पर जीरो टॉलरेंस (Zero Tolerance Policy) की नीति की बात करते हैं लेकिन कुछ अधिकारियों (Corrupt Railway Officers) के लिए मानो भ्रष्टाचार तरक्की (Promotion in Railway) की सीढ़ी है। यकीन न हो तो भोपाल रेल मंडल (Bhopal Rail Division) की...

Comment